आज अपना ज़माना है!

या वो थे ख़फ़ा हमसे या हम हैं ख़फ़ा उनसे,
कल उनका ज़माना था आज अपना ज़माना है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply