और डूब के जाना है!

ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना ही समझ लीजे,
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply