मरने का ज़माना है!

ये हुस्न-ओ-जमाल उनका ये इश्क़-ओ-शबाब अपना,
जीने की तमन्ना है मरने का ज़माना है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply