मज़ारों पे चादर चढ़ाई हुई!

ख़ुशी हम ग़रीबों की क्या है मियाँ,
मज़ारों पे चादर चढ़ाई हुई |

बशीर बद्र

Leave a Reply