अल्लाह का घर लगता है!

बुत भी रक्खे हैं नमाज़ें भी अदा होती हैं,
दिल मेरा दिल नहीं अल्लाह का घर लगता है|

बशीर बद्र

Leave a Reply