कोई सूरत नहीं रिहाई की!

मैं ही मुल्ज़िम हूँ मैं ही मुंसिफ़ हूँ,
कोई सूरत नहीं रिहाई की|

बशीर बद्र

Leave a Reply