छूते हुए डर लगता है!

सर से पा तक वो गुलाबों का शजर लगता है,
बा-वज़ू हो के भी छूते हुए डर लगता है|

बशीर बद्र

Leave a Reply