हैसियत क्या मेरी इकाई की!

अज़्मतें सब तेरी ख़ुदाई की,
हैसियत क्या मेरी इकाई की|

बशीर बद्र

Leave a Reply