हसरतों का मेरी शुमार नहीं!

तेरी रंजिश की इंतिहा मालूम,
हसरतों का मेरी शुमार नहीं|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply