कोई सुबह को कोई जाये शाम!

रुके नहीं कोई यहाँ नामी हो कि अनाम,
कोई जाये सुबह् को कोई जाये शाम|

गोपाल दास नीरज

Leave a Reply