घर आते नहीं चिट्ठी पत्री तार!

दूरभाष का देश में जब से हुआ प्रचार,
तब से घर आते नहीं चिट्ठी पत्री तार|

गोपाल दास नीरज

Leave a Reply