भूख न जाने शर्म!

भूखा पेट न जानता क्या है धर्म-अधर्म,
बेच देय संतान तक, भूख न जाने शर्म|

गोपाल दास नीरज

Leave a Reply