मिलावट से बने रोज़ यहाँ सरकार!

करें मिलावट फिर न क्यों व्यापारी व्यापार,
जबकि मिलावट से बने रोज़ यहाँ सरकार|

गोपाल दास नीरज

1 Comment

Leave a Reply