व्यक्ति वहाँ खुद जाए!

जहाँ मरण जिसका लिखा वो बानक बन आए,
मृत्यु नहीं जाये कहीं, व्यक्ति वहाँ खुद जाए|

गोपाल दास नीरज

Leave a Reply