सूख गये जल स्रोत सब!

आँखों का पानी मरा हम सबका यूँ आज,
सूख गये जल स्रोत सब इतनी आयी लाज|

गोपाल दास नीरज

Leave a Reply