दुनिया भी आई तो कहाँ आई!

अधूरे रास्ते से लौटना अच्छा नहीं होता,
बुलाने के लिए दुनिया भी आई तो कहाँ आई|

मुनव्वर राना

Leave a Reply