आबो-हवा गोकुली हुई!

मुरली सा कोई शख्स बजा जब भी ध्यान में,
मेरे बदन की आबो-हवा गोकुली हुई|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply