जैसे कोई गिलास – हम टूटे!

एक हल्की सी ठेस लगते ही,
जैसे कोई गिलास – हम टूटे|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply