बदन के ख़ोल में मैं बंद हो गया!

अपने बदन के ख़ोल में मैं बंद हो गया,
मुझको मिली कल एक जो लड़की खुली हुई|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply