शहर की भाषा धुली हुई!

कुछ बूढ़े मेरे गांव के संजीदा हो गये,
फेंकी जो मैंने शहर की भाषा धुली हुई|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply