जिस तरह से कोई क़सम टूटे!

बाँध टूटा नदी का कुछ ऐसे,
जिस तरह से कोई क़सम टूटे|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply