झूठ लिक्खें तो ये क़लम टूटे!

तुझ पे मरते हैं ज़िन्दगी अब भी,
झूठ लिक्खें तो ये क़लम टूटे|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply