हम तो हर क़दम टूटे!

शायरी, इश्क़, भूख, ख़ुद्दारी,
उम्र भर हम तो हर क़दम टूटे|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply