अपनी ही किसी बात पे रोना आया!

कौन रोता है किसी और की ख़ातिर ऐ दोस्त,
सबको अपनी ही किसी बात पे रोना आया|

साहिर लुधियानवी

Leave a Reply