धुन्ध से आना है, धुन्ध में जाना है!

संसार की हर शै का इतना ही फ़साना है,
इक धुन्ध से आना है, इक धुन्ध में जाना है|

साहिर लुधियानवी

Leave a Reply