तितली को न फूलों से उड़ाया जाए!

बाग़ में जाने के आदाब हुआ करते हैं,
किसी तितली को न फूलों से उड़ाया जाए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply