इस आँच में तपना नहीं आता!

दिल को सर-ए-उल्फ़त भी है रुसवाई का डर भी,
उसको अभी इस आँच में तपना नहीं आता|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply