कहोगे के तड़पना नहीं आता!

तुम अपने कलेजे पे ज़रा हाथ तो रक्खो,
क्यूँ अब भी कहोगे के तड़पना नहीं आता|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply