जिन्हें नाम भी अपना नहीं आता!

भूले थे उन्हीं के लिए दुनिया को कभी हम,
अब याद जिन्हें नाम भी अपना नहीं आता|

आनंद नारायण मुल्ला

Leave a Reply