ख़ून-ए-जिगर होते तक!

आशिक़ी सब्र-तलब और तमन्ना बेताब,
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होते तक|

मिर्ज़ा ग़ालिब

Leave a Reply