गालियां खा के बे मज़ा न हुआ!

कितने शीरीं हैं तेरे लब कि रकीब,
गालियां खा के बे मज़ा न हुआ|

मिर्ज़ा ग़ालिब

Leave a Reply