ज़ेहनों के वीराने लोग!

हम तो दिल की वीरानी भी दिखलाते शरमाते हैं,
हमको दिखलाने आते हैं ज़ेहनों के वीराने लोग|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply