हमको आते हैं समझाने लोग!

यादों से बचना मुश्किल है उनको कैसे समझाएँ,
हिज्र के इस सहरा तक हमको आते हैं समझाने लोग|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply