नए फूल खिलाते जाते!

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हमको वर्ना,
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply