इसे हर दिन फ़साने चाहिएँ!

तुम हक़ीक़त को लिए बैठे हो तो बैठे रहो,
ये ज़माना है इसे हर दिन फ़साने चाहिएँ|


राजेश रेड्डी

Leave a Reply