फिर सपने सजाने चाहिएँ!

रोज़ इन आँखों के सपने टूट जाते हैं तो क्या,
रोज़ इन आँखों में फिर सपने सजाने चाहिएँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply