सच बोलकर दुश्मन कमाने चाहिएँ!

दोस्तों का क्या है वो तो यूँ भी मिल जाते हैं मुफ़्त,
रोज़ इक सच बोलकर दुश्मन कमाने चाहिएँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply