लौटने का सामान कर लिया है!

दुनिया में आँखें खोली हैं मूँदने की ख़ातिर,
आते ही लौटने का सामान कर लिया है|

राजेश रेड्डी

1 Comment

Leave a Reply