ख़ुद पे कोई एहसान कर लिया है!

कुछ इस तरह गुज़ारा है ज़िंदगी को हमने,
जैसे कि ख़ुद पे कोई एहसान कर लिया है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply