बहुत दिन जी लिया मैंने!

बस अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उम्मीदो,
बहुत दुख सह लिए मैंने बहुत दिन जी लिया मैंने|

साहिर लुधियानवी

Leave a Reply