कुछ दिन ठहर के देखते हैं!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply