गली से गुज़र के देखते हैं!

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उसकी,
सो हम भी उसकी गली से गुज़र के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply