जुगनू ठहर के देखते हैं!

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

4 Comments

Leave a Reply