दर ओ दीवार घर के देखते हैं!

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply