उस पर निशाँ नहीं मिलता!

वो तेग़ मिल गई जिस से हुआ है क़त्ल मिरा,
किसी के हाथ का उस पर निशाँ नहीं मिलता|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply