कुछ निशाँ नहीं मिलता!

नई ज़मीन नया आसमाँ भी मिल जाए,
नए बशर का कहीं कुछ निशाँ नहीं मिलता|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply