कोई कहीं कोई कहीं रहता है!

इक ज़माना था कि सब एक जगह रहते थे,
और अब कोई कहीं कोई कहीं रहता है|

अहमद मुश्ताक़

Leave a Reply