नाम पे जिसके उबल पड़े!

साक़ी सभी को है ग़म-ए-तिश्ना-लबी मगर,
मय है उसी की नाम पे जिसके उबल पड़े|

कैफ़ी आज़मी

1 Comment

Leave a Reply