मगर आँसू निकल पड़े!

मुद्दत के बा’द उसने जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply