वक़्त का एहसास नहीं रहता है!

रोज़ मिलने पे भी लगता था कि जुग बीत गए,
इश्क़ में वक़्त का एहसास नहीं रहता है|

अहमद मुश्ताक़

Leave a Reply